मंगलवार, 10 जुलाई 2012

'गुरुदत्त' (Guru Dutt) - जो अपने समय से बहुत आगे थे !

प्रस्तुति--अल्पना वर्मा

अपने समय से बहुत आगे सोचने वाले कलाकार-
निर्देशक-निर्माता-अभिनेता -गुरदत्त
Tribute On his birth anniversary today
9 जुलाई 1925 में बैंगलोर में पैदा हुए. उनका असली नाम वसंत कुमार शिवशंकर पादुकोण था. कलकत्ता में पढ़े -लिखे. नृत्य से उन्हें बेहद लगाव था. 14 साल की उम्र में उन्होंने कलकत्ता में सारस्वत ब्राह्मणों के समारोह में एक बार सर्प नृत्य किया था. जिसके लिए उन्हें 5 रूपये इनाम मिले थे. पंडित उदय शंकर जी की अकेडमी से मोडर्न नृत्य सिखा. कोलकता में टेलीफोन ओपेरटर नौकरी की और फिर 1944 में पुणे स्थित प्रभात स्टूडियो पहुंचे. वे डांस डायरेक्टर [ कोरियोग्राफर] थे. बेरोज़गारी के दिनों में उन्होंने इलस्ट्रेटेड वीकली, एक स्थानीय अंग्रेजी साप्ताहिक पत्रिका के लिए लघु कथाएँ भी लिखीं.
एक बार प्रेसवाले ने देव आनंद और गुरुदत्त की कमीज़ की अदला-बदली कर दी और इस रोचक घटना के द्वारा प्रभात स्टूडियो में उनकी मुलाकात देव आनंद से हुई और दोनों बहुत अच्छे दोस्त बने. उनके मुम्बई आने पर देव आनंद ने अपने वादे के मुताबिक उन्हें नवकेतन बैनर के तहत बनी अपनी फिल्म बाज़ी में रोल दिया. बाज़ी सुपर हिट हुई और जो लोग उस के साथ जुड़े वे भी सभी हिट हो गए.
बाज़ी में कल्पना कार्तिक से जहाँ उनकी देव आनंद से मुलाक़ात हुई वहीँ गीता दत्त और गुरुदत्त की पहली मुलाकात भी हुई,जो उनके प्रेमिका और फिर पत्नी बनीं.फिल्म -बाज़ में उन्होंने पहली बार मुख्य रोल किया. इसी पहली फिल्म से अपना बेनर भी शुरू किया .वहीदा रहमान को पहला ब्रेक गुरुदत्त ने अपनी अगली फिल्म [बतौर निर्माता] 'सी .आई .डी' में दिया.
1957 में रिलीज हुई प्यासा में समाज से निराश नायक 'विजय' को देखकर सभी हैरान हो गए थे. 20 वर्षीय वहीदा को नृतकी 'गुलाबो' के रूप में बतौर अभिनेत्री उनकी पहली फिल्म दी. गुरुदत्त कहते थे फिल्म को दुखद अंत देना परंतु मित्रों की सलाह पर उन्होंने ऐसा नहीं किया.
'तंग आ चुके हैं हम कश्मकशे जिंदगी से हम'
हम गमजदा है लाएँ कहाँ से खुशी के गीत,
देंगे वही जो पायेंगे इस जिंदगी से हम.
आज़ादी के दस साल भी नहीं हुए और समाज के प्रति इतनी निराशा लिए लीक से हट कर बनी उनकी फिल्म ने कई सवाल खड़े कर दिए. . लगा गुरुदत्त की इस फिल्म के साथ हिंदी सिनेमा भी जाग उठा ! अपने आस पास देखने लगा.

मेकिंग ऑफ प्यासा -
फिल्म में एक संवाद है..
"मुझे शिकायत है उस समाज के उस ढाँचे से जो इंसान से उसकी इंसानियत छीन लेता है' मतलब के लिए अपने भाई को बेगाना बनाता है. दोस्त को दुश्मन बनाता है. बुतों को पूजा जाता है, जिन्दा इंसान को पैरों तले रौंदा जाता है. किसी के दुःख दर्द पर आँसू बहाना बुज़दिली समझा जाता है. छुप कर मिलना कमजोरी समझा जाता है."
'कागज़ के फ़ूल' फिल्म उनकी अपनी बायोग्राफी ही कही जाती है. फिल्म की असफलता पर उन्होंने कहा था 'जिंदगी में और है ही क्या ? सफलता और सफलता ! उसके बीच का कुछ नहीं. व्यवसायिक सफलता न मिलने के कारण उन्होंने अगली फिल्म मनोरंजन के लिए बनाई -प्रेम त्रिकोण पर 'चौदहवीं का चाँद' फिल्म, जो बॉक्स ऑफिस पर कामयाब रही. उस फिल्म की सफलता के बाद भी वह निराश थे कुछ ऐसा था जो उन्हें गुमसुम रखता था .

एक फिल्म के सेट पर उन्होंने कहा था :
देखो न, मुझे डायरेक्टर बनना था बन गया, एक्टर बनना था, बन गया. अच्छी फ़िल्में बनाना चाहता था ,बनाईं. पैसा है, सब कुछ है पर कुछ भी नहीं रहा !

बतौर निर्माता उनकी आखिरी फिल्म एक बंगाली उपन्यास पर आधारित फिल्म- 'साहब बीवी और गुलाम' थी. जिसका हर किरदार यादगार है. कला की उंचाईयों को छूती हुई भावनाओं में लिपटी थी यह फिल्म. और यह उनकी आखिरी फिल्म थी. उनका कहना था -''ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है ! कहने वाले गुरुदत्त इस दुनिया से बेजार हो चुके थे. 'कागज़ के फ़ूल जहाँ खिलते हैं बैठ न उन गुलज़ारों में'.. यही कहते -कहते वो महकता हुआ सच्चा फ़ूल 10 अक्टूबर 1964 के दिन 39 वर्ष की अल्पायु में ही हमेशा के लिए मुरझा गया.
"एक हाथ से देती है दुनिया सौ हाथों से ले लेती है यह खेल है कब से जारी!''

I Recommend these videos to fans of Gurudutt sahib , please Watch them-
Part-1
Part-2
---------------------------------
प्रस्तुति--अल्पना वर्मा
---------------------------------

34 टिप्‍पणियां:

  1. creative मंच को पुन: सक्रिय देखकर ख़ुशी हुई साथ में गुरुदत्त जी से जुडी जानकारिया तो बढ़िया है ही

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही जबरदस्त जानकारी कईं नयी बाते पता चली
    ज्ञानवर्धक आलेख
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. गुरुदत्त सच में समय से बहुत आगे थे..सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. धीरज भारद्वाज1:40 am, जुलाई 11, 2012

    I am also an old time fan of Gurudatt, but did not know this much about him... Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद शानदार ..जानकारी भी और रोचक भी ..

    मेरे सवादे-शौक़ का ख़ुरशीदे-नीमशब
    अज़्मे-शिकस्ते-माहज़बीनाँ लिये हुये
    दर्से-सुकूनो-सब्र ब-ईं-एहतमामे-नाज़
    नश्तरज़नीं-ए-जुंबिशे-मिज़गाँ लिये हुये............मजाज़ लखनवी..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद शानदार ..जानकारी भी और रोचक भी ..

    मेरे सवादे-शौक़ का ख़ुरशीदे-नीमशब
    अज़्मे-शिकस्ते-माहज़बीनाँ लिये हुये
    दर्से-सुकूनो-सब्र ब-ईं-एहतमामे-नाज़
    नश्तरज़नीं-ए-जुंबिशे-मिज़गाँ लिये हुये............मजाज़ लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी सिनेमा के सर्व कालिक महान निर्देशक गुरुदत्त के बारे में जानकारी बहुत अच्छी लगी ,कितना दुखद था एक बेहतरीन फनकार का बहुत कम उम्र में दुनिया को अलविदा कहना ,जब तक सिनेमा रहेगा ,गुरुदत्त रहेगे यादो में
    बेहद रोचक जानकारी का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. शानदार एंट्री मारी है क्रियेटिव मंच ने। बहुत बहुत बधाई शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. गुरुदत्त निःसंदेह महान कलाकार थे ! समय से आगे की सोच रखने वाले इस अज़ीम शख्सियत को उनकी सृजनात्मक और कलात्मक फिल्मों के लिए हमेशा याद रखा जायेगा !
    -
    -
    गुरुदत्त बेहतरीन फ़िल्म निर्माता और निर्देशक तो थे ही साथ ही में उनमें साहित्य, कला और संगीत की समझ भी खूब थी ! गुरुदत्त की तीन क्लासिक फिल्मों को टेक्स्ट बुक का दर्जा हासिल होता है. वे हैं 'प्यासा', 'कागज़ के फ़ूल', और 'साहिब, बीबी और गुलाम' !
    -
    -
    अल्पना जी आपने गुरुदत्त के बहुआयामी व्यक्तित्व को दर्शाती बहुत खुबसूरत पोस्ट तैयार की है !
    बहुत बहुत बधाई
    आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी पोस्ट कल 12/7/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 938 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  11. Sonal ji,darshan,prakash ji,dibaag virk ji,Nirmala ji,Pratibha ji,Govind Parmaar ji,Dheeraj ji,Praveen ji aur aakroshit Mn ji
    आप सभी को पोस्ट पसंद आई.
    बहुत -बहुत शुक्रिया.
    यूँ तो गुरुदत्त जी के बारे में यह बहुत ही संक्षेप में जानकारी दी गयी है.
    एक सफल और दूरदर्शी निर्माता - निर्देशक के रूप में ही अगर उनके
    फ़िल्मी जीवन को देखें तो उनके बारे में जितना लिखा जाए कम ही होगा.
    आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  12. comment recieved on Facebook -
    By -Ahmad Kamal Siddiqui :
    Bahut Bahut Dhanyvaad..
    Gurudat ka may hamesha Fan raha hun .
    Aaj unkey baarey mey Puri Jankari Mil Paye
    Jo Bhaut Hi Importent hai.
    Ek Baar Pahir Bahut Shukriya....

    उत्तर देंहटाएं
  13. Amir Roy Says on facebook for this post-

    naayaab information hai gurudatt ke baare me.
    bahut pasand ayi / thank

    उत्तर देंहटाएं
  14. गुरु दत्त जी के बारे ए विस्तार से इतनी जानकारी बहुत अच्छी लगी।
    इस मंच का फिर से सक्रिय होना भी बहुत अच्छा लगा।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  15. कल 13/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर जानकारी दी है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  18. itne dino baad aaj achanak creative manch ki post dekhkar bahut hi khushi huyi. hamesha ki tarah ye post bhi bahut sundar lagi. hamne gurudatt ji ki 3 films hi dekhi. teeno hi achi thi. alpana ji ne gurudatt ke bare me bahut sari jankari di. thanks
    [CM Quiz kab start hogi ?]

    उत्तर देंहटाएं
  19. गुरुदत्त तो गुरुदत्त हैं...
    शानदार आलेख...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही महत्त्वपूर्ण और रोचक जानकारी ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. आदरणीय अल्पना मैम आपने गुरुदत्त के बारे में बहोत ही अच्छी एवं सारगर्भित जानकारी दी है. क्रिएटिव मंच पर इतने दिनों बाद पोस्ट देखकर बहोत ही खुशी हुई. सादर आभार.
    [हम भी जानना चाह्ते है क्विज की शुरुआत कब होगी]

    उत्तर देंहटाएं
  22. @आशीष और आदिती ,ईश्वर ने चाहा तो नयी क्विज़ जल्द ही शुरू होगी.
    क्विज़ हेतु आप अगर कोई ख़ास दिन रखना चाहते हैं तो अपने सुझाव दें.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. गुरुदत्त जी से जुडी रोचक जानकारी दी आपने...

    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  25. गुरुदत्त जी और उनके संघर्ष से सम्बंधित अत्यंत रोचक जानकारी युक्त भाव पूर्ण सुन्दर आलेख ..शुभ कामनाएं एवं आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपने की है अच्छी भली गवेषणा |
    अध्ययन की आप की कमाल की ईषिणा ||
    साधुवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  27. समाज के सही रूप को प्रस्तुत करने का एक अच्छा माध्यम चल चित्र भी है | आप ने एक बहुत अच्छे नायक की याद दिलाई है ,जो आदर्शवादी कलाकार था तथा शोषण के विरुद्ध भी |
    मनोभावों को पर्दे पर सफलता पूर्वक वह अपने थोड़े से जीवन में सफल हुआ और अपनी अमिट
    छाप छोड़ गया |

    उत्तर देंहटाएं
  28. समाज के सही रूप को प्रस्तुत करने का एक अच्छा माध्यम चल चित्र भी है | आप ने एक बहुत अच्छे नायक की याद दिलाई है ,जो आदर्शवादी कलाकार था तथा शोषण के विरुद्ध भी |
    मनोभावों को पर्दे पर सफलता पूर्वक वह अपने थोड़े से जीवन में सफल हुआ और अपनी अमिट
    छाप छोड़ गया |

    उत्तर देंहटाएं
  29. THANKS , APNE KITNA HI ACHHA LIKHA HAI

    उत्तर देंहटाएं
  30. bAHUT bAHUT dHANYABAD AUR APKO ESKE BISAY ME BAHUT HI ACHHI JANKARI HAI fROM sUNIL kUMAR paNDEY

    उत्तर देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool