सोमवार, 12 अप्रैल 2010

नीलगिरी, तमिलनाडु की टोडा जनजाति

क्विज संचालन ---- प्रकाश गोविन्द


ज़मीर जी बने C.M.Quiz-33 के प्रथम विजेता
आप सभी को नमस्कार !
क्रियेटिव मंच आप सभी का स्वागत करता है !

आप सभी प्रतियोगियों एवं पाठकों को बहुत-बहुत बधाई जिन्होने इस पहेली मे हिस्सा लिया ! कल C.M.Quiz -33 के अंतर्गत हमने नीलगिरी, तमिलनाडु में निवास करने वाली टोडा जनजाति से सम्बंधित तीन चित्र दिखाए थे और उन चित्रों के आधार पर प्रतियोगियों से जनजाति पहचानने को कहा था! सबसे पहले ज़मीर जी सही जवाब देकर प्रथम स्थान पर रहे! द्वितीय और तृतीय स्थान पर क्रमशः मोहसिन जी और शमीम जी ने कब्ज़ा जमाया!

पिछली दो क्विज में अभिषेक जी का नाम विजेता लिस्ट में शामिल नहीं हो पाया था ! बहुत अच्छा लगा देखकर कि अभिषेक जी ने अपनी प्रोफाईल बना ली है, अब आशा है शीघ्र ही ब्लॉग लेखन भी आरम्भ करेंगे ! उर्मि चक्रबर्ती जी लगातार सही जवाब देने का सिलसिला बनाए हुए हैं !

सभी विजेताओं को हमारी तरफ से बहुत-बहुत बधाई और शुभ कामनाएं

आईये अब Quiz के चित्रों में दिखाए गए टोडा जनजाति के सम्बन्ध में
संक्षिप्त जानकारी प्राप्त करते हैं और प्रतियोगिता का परिणाम देखते हैं :--
जनजाति व आदिवासी समाज आज भी 'इंडिया' के इस विकसित होते स्वरुप में उसी भारत का हिस्सा है, जहाँ सहजता बची हुयी है ! इस समाज में ज्यादातर लोग अब भी किसी न किसी रूप में जीविका के लिए जंगल और प्रकृति पर निर्भर हैं ! अनेक जन- जातियां आज भी अपनी मौलिक मान्यताओं एवं रीति-रिवाजों के साथ जीवन-यापन कर रही हैं किन्तु समय और समाज में परिवर्तन के क्रम में ये जनजातियाँ भी धीरे-धीरे अपनी धरोहरों को खोने लगी हैं !
************************************************************
नीलगिरी, तमिलनाडु की टोडा जनजाति
[Toda Tribe]

नीलगिरि की पर्वतमाला भारत की कुछ विशिष्ट आदिम जातियों का निवास स्थान है। इस पर्वतमाला की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 6000 से 7000 फीट तक है। यह पर्वतमाला घने वनों से आच्छादित है जिसमें कहीं-कहीं ऊंचा पठार क्षेत्र भी पाया जाता है। यही पठार यहां रहने वाली जनजातियों का निवास स्थान है। यहां की जनजातियों में टोडा, बडागा तथा कोटा प्रमुख हैं।

1 प्रकृति की गोद में साधरण जीवन व्यतीत करने के कारण ये लोग पशु- धन से अपने सामाजिक स्तर का आकलन करते हैं। जिस व्यक्ति के पास अधिक पशु-धन होता है, समाज में उसका स्तर ऊंचा माना जाता है। टोडा लोग समूह में निवास करना पसंद करते हैं। आदिकाल से, बाहरी सम्पर्क से कटे रहने के कारण जिस तरह यहां की जनजातियों ने परस्पर विनिमय का प्रबंध् स्थापित किया है वह अपने आप में अद्वितीय है। बडागा जनजाति यहां मुख्य रूप से कृषि कार्य करती है और कोटा लोग बर्तन, लकड़ी व लोहे के विभिन्न उपकरण आदि बनाते हैं, वहीं टोडा पशुपालकों के रूप में अपनी विशिष्ट पहचान रखते हैं। बडागा तथा कोटा जनजातियां लोगों को अन्न, वस्त्र, बर्तन, घरेलू उपकरण आदि उपलब्ध कराती हैं और उनके बदले दूध्, घी, मक्खन आदि पदार्थ प्राप्त करती हैं।

यह दोनों मुख्य इकाईयां आपस में वैवाहिक संबंध् स्थापित नहीं करती हैं। तेवाल्याल इकाई के लोग ही धर्मिक क्रिया-कलापों को सम्पन्न कराते हैं। इस प्रकार टोडा समाज में उनकी भूमिका कुछ-कुछ हिन्दू पुजारियों जैसी होती है। टोडा जनजाति की भाषा में तमिल भाषा के काफी शब्द पाए जाते हैं और शेष बडागा जनजाति की भाषा से मिलते हुए होते हैं।

टोडा लोगों की झोपड़ियों की ऊंचाई आठ से दस फीट होती है परंतु Toda_house_building तुलनात्मक दृष्टि से इनकी लम्बाई लगभग दोगुनी होती है। इनकी छत भूमि से एक-दो फीट की ऊंचाई से प्रारम्भ होते हुए अर्ध-गोलाकार रूप में समस्त झोपड़ी को ढक लेती है। इनका मुख्य द्वार आगे से इतना बंद होता है कि झोपड़ी के अंदर रेंगकर जाना पड़ता है और इस द्वार को भी वह रात्रि में लकड़ी के लट्ठे से पूर्णतया बंद करके रखते हैं। झोपड़ी के चारों ओर भी पत्थरों को जोड़कर दो-तीन फीट ऊंची दीवार बनाई जाती है जिसमें अंदर आने के लिए बहुत छोटा सा द्वार छोड़ा जाता है।

सम्भवत: वन्य जीवों से स्वयं की रक्षा करने के लिए ही टोडा संस्कृति में इस आकार- प्रकार की झोपड़ियां बनाने की परम्परा का समावेश हुआ है। झोपड़ी में एक चबूतरा होता है जिसे चटाई से ढंक दिया जाता है। इसका प्रयोग सोने के लिए किया जाता है। toda tribe with hut इसके ठीक दूसरी तरफ खाना पकाने का स्थान होता है। टोडा लोग दैनिक कृत्यों के लिए तो आग जलाने के आधुनिक साधनों जैसे माचिस आदि का प्रयोग करते हैं। लेकिन धर्मिक रीति-रिवाजों के समय व संस्कारों के निर्वहन में लकड़ी रगड़कर आग उत्पत्र करने के पारम्परिक तरीके को अपनाते हैं।

टोडा लोग विशेष रूप से अच्छी नस्ल की भरपूर दूध देने वाली भैंसों को पालते हैं। ये लोग स्त्रियों को अपवित्र मानते हैं, इसलिए धर्मिक क्रिया-कलापों तथा दुग्ध्-उत्पादन संबंधी कार्यों में इनकी कम ही भूमिका रहती है। जनजाति के लोग भैंसों को दो समूहों में बांट कर रखते हैं। एक सामान्य पवित्र भैंसें दूसरी पवित्र भैंसे। साधरण पवित्र भैंसे विभिन्न परिवारों की सम्पत्ति होती हैं, वहीं पवित्र भैंसे पूरे गांव की सम्पत्ति होती हैं।

पवित्र भैंसों के लिए गांव से थोड़ा दूर हट कर एक पवित्र स्थान का निर्माण किया जाता है। इस पवित्र स्थान के कार्य संचालन के लिए विशेष संस्कारों का पालन करने वाले एक व्यक्ति को चुना जाता है, जिसे toda.a7 स्थानीय भाषा में पलोल कहा जाता है। पलोल को पुजारी की भांति पवित्र माना जाता है और उसके द्वारा ब्रहाचर्य का पालन करना आवश्यक माना जाता है। यदि वह विवाहित होता है तो उसे अपनी पत्नी को छोड़ना पड़ता है।

आदिकाल से टोडा जनजाति में बहुपति प्रथा का प्रचलन रहा है। जब भी किसी व्यक्ति का विवाह सम्पन्न होता है तो उसकी पत्नी को स्वत: ही उस व्यक्ति के भाईयों की पत्नी मान लिया जाता है। परंतु संतानोत्पत्ति के समय यह आवश्यक नहीं है कि जो व्यक्ति उस स्त्री को ब्याह कर लाया हो वही उस संतान का पिता कहलाए। इसलिए सामाजिक पारिवारिक कर्तव्यों के निर्वाह के लिए टोडा समाज में पिता निर्धारित करने की एक विशेष परम्परा है। इसके अनुसार गर्भ के सातवें महीने में जो भी भाई अपनी पत्नी को पत्ती और टहनी से बना एक प्रतीकात्मक धनुष-बाण भेंट करता है, वही उसकी होने वाली संतान का पिता कहलाता है। हालांकि इतना अवश्य है कि यदि बड़ा भाई जीवित हो तो अक्सर वही उस स्त्री को प्रतीकात्मक धनुष-बाण भेंट करते हुए परम्परा का निर्वाह करता है।

टोडा स्त्रियां व पुरुष दोनों ही सफेद रंग का लाल व नीली धरियों वाला वस्त्र धरण करते हैं। टोडा स्त्रियों का अधिकतर समय सिर में तेल लगाने, बाल बनाने, कढ़ाई करने भोजन तैयार करने में जाता है। यौवनकाल आरम्भ होने से पहले ही टोडा युवतियों में गोदना करवाने की परम्परा भी पाई जाती है। इसके लिए ये लोग कांटे का प्रयोग करते हैं और गोदने के बाद इसमें लकड़ी के कोयले से रंग भर देते हैं। टोडा पुरुषों की लम्बाई औसत से कुछ अधिक होती है और वे मजबूत कद-काठी के होते हैं।

सम्भवत: हर पुरुष के दाहिने कंधे पर पुराने घाव का निशान या गांठ पाई जाती है। यह कंधे को जलती लकड़ी से दागने से बन जाती है, जिसे कि एक संस्कार के रूप में हर बालक पर बनाया जाता है जब उसकी आयु बारह वर्ष की होती है। उस समय से वह भैंसों का दूध् दुहना प्रारम्भ करता है। टोडा लोगों का मानना है कि इससे दूध् दुहने के समय दर्द व थकान नहीं होती है। इसी प्रकार गर्भवती स्त्रियों की अंगुलियों के जोड़ों व कलाई पर तेल में भीगे जलते हुए कपड़े से एक बिन्दु बनाया जाता है। इस सम्बन्ध् में उनका मानना है कि इससे गर्भ के दौरान स्वास्थ्य की रक्षा होती है और वह किसी बुरी छाया से बची रहती हैं।

टोडा जनजाति प्राकृतिक संसाधनो पर निर्भर होने के कारण टोडा लोगों को नीलगिरि की पहाड़ियों में अक्सर ही पशु चारे के लिए घास के नए मैदानों की खोज करनी पड़ती है। ऐसी स्थिति में कभी-कभी पूरा गांव ही अपने सदस्य परिवारों के साथ स्थानांतरित हो जाता है। इसके अतिरिक्त, टोडा लोग कई बार अपने त्यागे गए रहने के पुराने स्थानों की भी धर्म भाव से यात्रा करते हैं। इन यात्राओं में वे अपने परिवारों व पशु-धन को साथ ले जाते हैं।

[समस्त जानकारी अंतरजाल से साभार]
C.M. Quiz - 33
प्रतियोगिता का पूरा परिणाम :
ds



द्वितीय स्थान :
मोहसिन जी
mohsin ji
प्रथम स्थान :
ज़मीर जी
zameer ji



तृतीय स्थान :
शमीम जी
shameem ji
ds
चौथा स्थान :
अभिषेक जैन जी
abhishek ji
पांचवां स्थान :
उर्मि चक्रबर्ती जी
babli ji
छठा स्थान :
अल्पना वर्मा जी
alpana ji
सातवाँ स्थान :
shilpi jain ji
आठवां स्थान :
rekha ji
नवां स्थान :
udan tastari ji
दसवां स्थान :
ishita ji
ग्यारहवां स्थान :
बारहवां स्थान :
13 वां स्थान :
kritika ji
14 वां स्थान :
shivendra ji
15 वां स्थान :
shekhar
applause applause applause विजताओं को बधाईयाँ applause applause applause
applause applause applause applause applause applause applause applause applause
***********************************************************
आशा है जो इस बार सफल नहीं हुए अगली बार अवश्य सफल होंगे

आप
लोगों ने उम्मीद से बढ़कर प्रतियोगिता में शामिल होकर
इस आयोजन को सफल बनाया जिसकी हमें बेहद ख़ुशी है
अल्पना वर्मा जी, शिवेंद्र सिन्हा जी, इशिता जी, शेखर जी, रेखा प्रह्लाद जी,
शेखर जी, विजय कुमार सप्पत्ति जी, गगन शर्मा जी, ज़मीर जी, मोहसिन जी,
अभिषेक जैन जी, उड़न तस्तरी जी, दिनेश सरोज जी, रामकृष्ण गौतम जी,
अदिति चौहान जी, शिल्पी जैन जी, कृतिका जी, शमीम जी, बबली जी,

आप सभी लोगों का हार्दिक धन्यवाद
यह आयोजन हम सब के लिये मनोरंजन ओर ज्ञानवर्धन का माध्यम है !
आपके पास कोई सुझाव हो तो हमें जरूर -मेल करें!
अंत में हम सभी प्रतियोगियों और पाठकों का आभार व्यक्त करते हैं
जिन्होंने क्रियेटिव मंच की क्विज़ में शामिल होकर हमारा उत्साह बढाया
th_Cartoon
अगले रविवार (Sunday) को हम ' प्रातः दस बजे' एक नयी क्विज़ के साथ यहीं मिलेंगे !

सधन्यवाद
क्रियेटिवमंच
creativemanch@gmail.com
================
The End

23 टिप्‍पणियां:

  1. ज़मीर जी और अन्य सभी विजेताओं को मुबारकबाद
    तोडा जनजाति के बारे में विस्तार से जानकारी देने के लिए आभार
    बहुत सुन्दर पोस्ट बनाते हैं आप लोग

    उत्तर देंहटाएं
  2. congratulation to all winners
    and participants
    and thanks to creative manch for nice program

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़मीर जी, मोहसिन जी और शमीम जी & anya vijetao ko badhai ho badhai (^_^)

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके इस कोशिश की कैसे तारीफ करे। बहुत अच्छा प्रयास। हम भी क्विज में भाग लेने के ख्वाहिशमंद हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ज़मीर जी और अन्य विजेताओं को बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. विजेताओं को बहुत बहुत बधाई ! अनन्त शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़मीर जी, मोहसिन जी, शमीम जी और अन्य सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई.
    तोडा जनजाति के बारे जानकारी देने के लिए आभार
    बहुत सुन्दर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  8. sabhi quiz players ko bahut badhayi.
    itni jaldi maine Answer diya tha fir bhi meri 10th place :(

    anant ji aapne ne bahut achhe se Toda tribe ki jankari di hai. inka cultur padhkar bahut hairani huyi. inka ghar kitna sundar hota hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. धन्यवाद और अन्य विजेताओं को बधाई .
    आदर्णीय अनंत जी भी बधाई के पात्र हैं. अच्छी Quiz और साथ ही जानकारी भी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज़मीर जी सहित सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई.
    तोडा जनजाति के बारे में पहली बार इसी मंच से जानकारी मिली.आशचर्य होता है इस आधुनिक युग में भी ये
    बाहरी दुनिया से जुड़ने के बाद भी अपनी संस्कृति को बचे हुए हैं.इनके बारे में एक और जानकीर मुझे नेट पर मिली कि
    बिश्नोई और तोडा जनजाति ही मात्र दो ऐसी जनजातियाँ हैं जो शाकाहारी हैं.
    किसी ने इन पर अपनी रिसर्च पेपर में यह भी लिखा है कि अपनी जनजाति की जनसँख्या बढ़ाने के प्रयास के रूप में अब इस जातिके लोगों ने अपनी लड़कियों को बाहरी लोगों से संतान उत्पत्ति की अनुमति दी है.
    आभार आप का इस जानकारी हेतु.
    --

    उत्तर देंहटाएं
  11. aapke presentation ki jitni bhi taarif karun kam hi hogi. bahut hi sundar aur bahut hi gyanvardhak post.
    thnx
    -------------
    -------------
    jin logon ne bhi participate kiya un sabhi ko wishes

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन ब्लॉग
    अनोखी जानकारियां
    सबको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. ज़मीर जी और अन्य सभी विजेताओं को बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सभी विनरों तथा संचालक महोदय को बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  15. ज़मीर जी, मोहसिन जी और शमीम जी को हार्दिक बधाई, आप लोगों ने बहुत ही जल्दी जवाब दे दिया, अन्य सभी ने भी अच्छा किया पर समय से पिछड़ गए... :)

    काफी रोचक अनुभव रहा, दो-तीन दिनों पहले ही रोशनी साहू जी के ब्लॉग से इस प्रतियोगिता वाले ब्लॉग की जानकारी हुई, और मैंने तो पहली बार ही भाग लिया और कुल मिला कर काफी आनंददायक अनुभव रहा...

    उत्तर देंहटाएं
  16. ज़मीर जी और अन्य विजेताओं को बधाई.
    बेहतरीन जानकारियां

    उत्तर देंहटाएं
  17. जमीर जी सहित सभी विजेताओं को बधाई.
    पुनः ज्ञानवर्धन हुआ. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. सभी विजेताओं को बहुत-बहुत बधाई और शुभ कामनाएं!
    Creative manch toda janjati ki jankari prapt huii accha laga.
    jab bhi aapko mouka mile to aap kya aap aadiwasi kalakriti par bhi koi lekh prakashit kar sakte hain?
    isse kalakaron ko bahut madad milegi apni bhartiy kalakrtiyon ke bare men janne se.
    Aabhar
    Dhanywad

    उत्तर देंहटाएं
  19. @ प्रिय रौशनी जी
    हम अवश्य इस तरह की सामग्री प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे! क्रिएटिव मंच का वास्तविक उद्देश्य ही यही है! विभिन्न संस्कृतियों, परम्पराओं, लोक कलाओं एवं उत्कृष्ट साहित्य इत्यादि से पाठकों को परिचित कराना! पहले भी हम प्रयास करते रहे हैं!

    इधर प्रतियोगिताओं के कारण समस्या आ रही थी ! जैसे ही C.M.Quiz का पहला राउंड समाप्त होगा, हम कुछ और बेहतर करने की कोशिश करेंगे ! आप भी सामग्री देकर अपना विशिष्ट योगदान दे सकती हैं ! हमें ख़ुशी होगी !
    ई-मेल द्वारा संपर्क बनाये रखिये !

    -----------------क्रिएटिव मंच

    उत्तर देंहटाएं
  20. ज़मीर जी को बह्त बहुत बधाई !

    मोहसिन जी और शमीम जी को भी मुबारकबाद !

    क्रिएटिव मंच द्वारा स्वस्थ प्रतिस्पर्धाओं का संयोजन निस्संदेह एक स्वस्थ वातावरण का निर्माण कर रहा है , इसमें अवरोध नहीं आना चाहिए ।

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool