बुधवार, 12 मई 2010

मत बांधिए उसके अन्दर की आग को -- 'ऋतु पल्लवी'

क्रिएटिव मंच पर आप का स्वागत है !

इस मंच के शुरआती दौर से ही हमने हिंदी व् अन्य भाषाओँ के चर्चित लेखक / लेखिका की चुनिन्दा रचनाएँ आप के समक्ष प्रस्तुत करते रहे हैं ! इसी श्रृंखला के अंतर्गत आज प्रस्तुत हैं -'डा० ऋतु पल्लवी की पांच बेहतरीन कवितायें'

आशा है आप का सहयोग एवं सराहना हमें पूर्ववत मिलता रहेगा और प्रस्तुत रचनाओं पर आप के विचारों की प्रतीक्षा रहेगी !
प्रस्तुति :- -प्रकाश गोविन्द


डॉ. ऋतु पल्लवी
Ritu Pallavi
परिचय

जन्म : 16 अक्तूबर 1978
जन्म स्थान : सीतामढी (बिहार)
शिक्षा- 'निर्मल वर्मा के उपन्यासों में चरित्र एवं परिवेश' पर शोध कार्य।
व्यवसाय- केंद्रीय विद्यालय में स्नातकोत्तर शिक्षिका हिंदी।
प्रकाशन- 'कादम्बिनी' में कविता, पूर्वग्रह (भारत भवन प्र.) में लेख, के.वि. त्रैमासिक पत्रिका में समय-समय पर लेख, कविता आदि। नेट पत्रिका 'अनुभूति' पर कविताएँ और 'अभिव्यक्ति' पर पुस्तक समीक्षा प्रकाशित।
रुचि- साहित्यिक पठन-पाठन एवं लेखन।

fire-storm-peter-shor
औरत
=====
पेचीदा, उलझी हुई राहों का सफ़र है
कहीं बेवज़ह सहारा तो कहीं खौफ़नाक अकेलापन है
कभी सख्त रूढि़यों की दीवार से बाहर की लड़ाई है...
..तो कभी घर की ही छत तले अस्तित्व की खोज है
समझौतों की बुनियाद पर खड़ा ये सारा जीवन
जैसे-जैसे अपने होने को घटाता है...
दुनिया की नज़रों में बड़ा होता जाता है
...कहीं मरियम तो कहीं देवी की महिमा का स्वरूप पाता है!
***********************************************************
जीने भी दो
==========
महानगर में ऊँचे पद की नौकरी
अच्छा-सा जीवन साथी और हवादार घर
यही रूपरेखा है-
युवा वर्ग की समस्याओं का और यही निदान भी। Fan-Death-II-500

इस समस्या को कभी आप तितली,
फूल और गंध से जोड़ते हैं,
रूमानी खाका खींचते हैं,
उसके सपनों, उम्मीदों-महत्वाकांक्षाओं का।

कभी प्रगतिवाद, मार्क्सवाद, सर्ववाद से जोड़कर
मीमांसा करते हैं उसके अन्तर्द्वन्द्व
साहस और संघर्ष की।
छात्र आन्दोलनों, युवा रैलियों, राजनीति से जोड़ते हैं
कभी उसके अन्दर के
विद्रोह, क्रान्ति और सृजन को।

मत बांधिए उसके अन्दर की आग को इन परिभाषाओं में
जिन से जुड़कर वह केवल
वाद, डंडों और मोर्चों का होकर रह जाता है।


जीने दीजिये उसे अपना नितांत निजी जीवन
अपने सपने, अपना संघर्ष
अपनी समस्याएँ, अपना निदान!
***********************************************************
वेश्या
=====
मैं पवित्रता की कसौटी पर पवित्रतम हूँpainting 001
क्योंकि मैं तुम्हारे समाज को
अपवित्र होने से बचाती हूँ।

सारे बनैले-खूंखार भावों को भरती हूँ
कोमलतम भावनाओं को पुख्ता करती हूँ।

मानव के भीतर की उस गाँठ को खोलती हूँ
जो इस सामाजिक तंत्र को उलझा देता
जो घर को, घर नहीं
द्रौपदी के चीरहरण का सभालय बना देता।

मैं अपने अस्तित्व को तुम्हारे कल्याण के लिए खोती हूँ
स्वयं टूटकर भी, समाज को टूटने से बचाती हूँ
और तुम मेरे लिए नित्य नयी
दीवार खड़ी करते हो।
'बियर बार' और ' क्लब' जैसे शब्दों के प्रश्न
संसद मैं बरी करते हो।

अगर सचमुच तुम्हे मेरे काम पर शर्म आती है
तो रोको उस दीवार पार करते व्यक्ति को
जो तुम्हारा ही अभिन्न साथी है।
मैं तो यहाँ स्वाभिमान के साथ
तलवार की नोंक पर रहकर भी,
तन बेचकर, मन की पवित्रता को बचा लेती हूँ

पर क्या कहोगे अपने उस मित्र को
जो माँ-बहन, पत्नी, पड़ोसियों से नज़रें बचाकर
सारे तंत्र की मर्यादा को ताक पर रखकर
रोज़ यहाँ मन बेचने चला आता है।
***********************************************************
क्यों नहीं
=========
नीला आकाश, सुनहरी धूप, हरे खेत
पीले पत्ते ही क्यों उपमान बनते हैं !

कभी बेरंग रेगिस्तान में क्यों
गुलाबी फूलों की बात नहीं होती ? Painting_P3_04.246162826

रूप की रोशनी ,तारों की रिमझिम,
फूलों की शबनमी को ही क्यों सराहते हैं लोग!

कभी अनमनी अमावस की रात में क्यों
चाँद की चांदनी नहीं सजती ?

नेताओं के नारे ,पत्रकारों के व्यक्तव्य
कवि के भवितव्य ही क्यों सजते हैं अखबारों में!

कभी आम आदमी की संवेदना का सम्पादन
क्यों नहीं छपता इन प्रसारों में ?

मैं तुम्हें प्रेम भरी पाती ,संवेदनशील कविता,सन्देश,आवेश
या आक्रोश कुछ भी न भेजूं!

फिर भी मुखरित हो जाए मेरी हर बात
कभी क्यों नहीं होता ऐसा शब्दों पर,मौन का आघात..?
***********************************************************
मृत्यु
======

जब विकृत हो जाता है,हाड़-मांस का शरीर
निचुड़ा हुआ निस्सार489
खाली हो जाता है
संवेदना का हर आधार..
सोख लेता है वक्त भावनाओं को,
सिखा देते हैं रिश्ते अकेले रहना (परिवार में)
अनुराग,ऊष्मा,उल्लास,ऊर्जा,गति
सबका एक-एक करके हिस्सा बाँट लेते हैं हम
और आँख बंद कर लेते हैं.
पूरे कर लेते हैं-अपने सारे सरोकार
और निरर्थकता के बोझ तले
दबा देते हैं उसके अस्तित्व को
तब वह व्यक्ति मर जाता है,अपने सारे प्रतिदान देकर
और हमारे केवल कुछ अश्रु लेकर..

***********************************************************
The End

41 टिप्‍पणियां:

  1. नीला आकाश, सुनहरी धूप, हरे खेत
    पीले पत्ते ही क्यों उपमान बनते हैं !
    कभी बेरंग रेगिस्तान में क्यों
    गुलाबी फूलों की बात नहीं होती ?
    उम्दा सोच, गहरे भाव! उत्तम रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अलग अलग भाव, तेवर और शब्द-संयोग से रचनाएं अच्छी बन पड़ी है ऋतु जी।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत जबरदस्त!!






    एक अपील:

    विवादों को नजर अंदाज कर निस्वार्थ हिन्दी की सेवा करते रहें, यही समय की मांग है.

    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  4. डा० ऋतु पल्लवी जी की पाँच बेहतरीन कविता की अच्छी पेशकश के लिए आपका धन्यवाद ...इनकी कविता में से ..प्रथम मुझे अधिक प्रभावित कर गयी

    उत्तर देंहटाएं
  5. ek ek rachna dil se nikli hui lagti hai...lajawaab aur jabardast...veshya to bahut hi achchi ban padi hai...badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  6. Ritu Pallavi ji sabhi rachnaayen bahut sundar hain. mujhe khaas taur par 'जीने भी दो' aur 'वेश्या' bahut pasand aayi.
    thanks to you

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऋतू जी की सभी कवितायें गहरे भाव लिए हुए है.
    पठनीय रचनाएं

    उत्कृष्ट रचनाओं से रु-ब-रु कराने के लिए आपका बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut damdaar kavitayen hain
    rachnaaon apna prabhaav chhodti hain.
    Ritu ji aur creative manch ko bahut
    dhanyavad

    उत्तर देंहटाएं
  9. समझौतों की बुनियाद पर खड़ा ये सारा जीवन
    जैसे-जैसे अपने होने को घटाता है...
    दुनिया की नज़रों में बड़ा होता जाता है
    ===============================
    मैं तो यहाँ स्वाभिमान के साथ
    तलवार की नोंक पर रहकर भी,
    तन बेचकर, मन की पवित्रता को बचा लेती हूँ
    ===============================
    कभी आम आदमी की संवेदना का सम्पादन
    क्यों नहीं छपता इन प्रसारों में ?
    ===============================
    निरर्थकता के बोझ तले
    दबा देते हैं उसके अस्तित्व को
    तब वह व्यक्ति मर जाता है,अपने सारे प्रतिदान देकर
    ----------------------

    har kavita behtareen
    dil ko gahrayi se touch karti huyi
    kitne sawaal paida karti huyi

    ritu ji ke kavitayen padhvane ke liye aapko thanks

    उत्तर देंहटाएं
  10. डा० ऋतु पल्लवी जी की सभी रचनाये बेहतरीन और सशक्त हैं.
    आपने परिचय कराया. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऋतू जी की लिखी सभी कवितायेँ बहुत अच्छी लगीं.
    आप के मंच का यह प्रयास सराहनीय है.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. behtrin prastuti...sabhi kavitaye bahut sundar...

    aabhar aapka aisi pratibhao se milwane aur itni shashkat rachnaye padhwane ke liye...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ritu ji...jitni bhi tarif karoon,kam hogi...bahut sundar bhav hai..

    उत्तर देंहटाएं
  14. ऋतू जी की सभी कवितायेँ सुन्दर और गंभीर हैं.
    कविता 'जीने भी दो' , 'वेश्या', और 'क्यों नहीं' पढ़कर मन में बेचैनी होती है
    यही कलम की जीत है /
    अनंत जी आपका यह प्रयास अत्यंत सराहनीय है

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut sundar post
    har ek kavita sanjeedgi se bhari hai.
    'vaishyaa' kavita purush samaaj pe prashn chinh khada karti hai.

    thanks to creative manch

    उत्तर देंहटाएं
  16. विभिन्न रंगों को लिए आपकी रचनाएँ बहुत अच्छी लगीं....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी बेरंग रेगिस्तान में क्यों
    गुलाबी फूलों की बात नहीं होती

    गहरी बात करती पंक्तिया ,creative मंच को अच्छी रचनाये पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  18. ऋतू जी की रचनाएं उच्च स्तरीय हैं. शब्दों को गौर से पढने पर आभास होता है कि कविता में बहुत गहरी बात कही गयी है.
    ऋतू जी की कविता 'मृत्यु' ऐसी ही कविता लगी. मेरे स्टेंडर्ड से बहुत ऊंची है कविता :)
    सराहनीय....आपको थैंक्स

    उत्तर देंहटाएं
  19. सराहनीय रचनाएं
    ऋतू जी की सभी कवितायें गहरे भाव लिए हुए है.
    डा० ऋतु पल्लवी जी से आपने परिचय कराया. THANK TO CREATIVE MANCH.

    उत्तर देंहटाएं
  20. beautiful poems.
    Very very meaningful.
    sabhi ki sabhi kavitayen bahut hi achchee hain.

    उत्तर देंहटाएं
  21. Yea!one more thing-given pictures [with each poem ]are so good!
    Very well presented post.

    उत्तर देंहटाएं
  22. If you ask me ..I feel --'Mrityu' and 'vaishya'are really great poems.
    Deep thoughts are woven so beautifully in them.
    once again congratulations Dr. Ritu.

    उत्तर देंहटाएं
  23. If you ask me ..I feel --'Mrityu' and 'vaishya'are really great poems.
    Deep thoughts are woven so beautifully in them.
    once again congratulations Dr. Ritu.

    उत्तर देंहटाएं
  24. sabhi kavitae shandar hai. aurat ke vishay me kafi gahrai ki bat khi hai. vicharo ki udan. vicharo ki antaryatra ko pranam.
    sanjay parashar

    उत्तर देंहटाएं
  25. अनंत काफी सराहनीय काम कर रहे हैं आप....ऋतु की कविताएं काफी अच्छी है..

    पर क्यों नहीं की इन पंक्तियों ..
    नेताओं के नारे ,पत्रकारों के व्यक्तव्य
    कवि के भवितव्य ही क्यों सजते हैं अखबारों में!
    कभी आम आदमी की संवेदना का सम्पादन
    क्यों नहीं छपता इन प्रसारों में ? ..

    से थोड़ी सी असहमति है....अखबारों में आम आदमी की संवेदनाएं छपती हैं....असल समस्या है कि जिस स्तर पर बदलाव करने की क्षमता है.उस स्तर पर आम आदमी की संवेदनाएं नहीं पहुंचती .उस स्तर पर बैठे लोगो को ज्यादा परवाह वोटो की है, न की आम आदमी की...

    उत्तर देंहटाएं
  26. वैसे कविता में उठाए प्रश्न काफी तीखे और सीधे हैं......उम्मीद करता हूं की ऋतुजी बूरा नहीं मानेगी टिप्पणी का.....

    उत्तर देंहटाएं
  27. विचारों को नए आयाम देती उत्कृष्ट रचनाएं हैं
    ऋतू जी की रचनाओं में खूबी नजर आती है कि वो हर चीज को एक नए एंगल से देखती हैं
    सभी कवितायें मन को भा गयीं विशेषकर 'मृत्यु' और 'जीने भी दो'
    कई कमेंट्स बहुत अच्छे हैं
    क्रिएटिव मंच का प्रस्तुतुकरण हमेशा की तरह लाजवाब है
    अनुरोध है कि इस स्तम्भ को नियमित रखिये
    सधन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  28. itne saare logon ne taareef kar di hai ki mere liye gunjaayish nahi bachi. bas itna hi kahunga - sabhi rachnayen sundar hain. 'vaishya' kavita yaad rah jaane wali kavita hai.
    anumeha ji se sahmat hun ki aapka presentation gajab ka hota hai.
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  29. आज फिर इन कविताओं को पढ़ा है...
    वाकई तल्खियाँ नज़र आती हैं इनमें...
    'औरत 'कविता के साथ दी गयी पेंटिंग का चुनाव...बहुत ही सटीक लगा..जिस ने भी इस चित्र का चुनाव किया उसे बधाई.
    -----------------------
    वेश्या कविता पढ़ें तो मुझे चमेली फिल्म की याद आई जिसमें कुछ ऐसी ही बात करीना भी कहती है.
    --
    कवितायेँ बेहद प्रभावशाली हैं ..और साथ ही उनके साथ लगाये गए चित्र बेहद सुरुचिपूर्ण और विषयानुकुल हैं.
    --
    एक प्रभावी पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  30. [--एक सुझाव देना चाहूंगी आप के ब्लॉग टेम्पलेट के लिए अगर आप अन्यथा न लें तो ..कृपया इसे साइड बार एक ही रखें ..मुख्य पोस्ट का पेज थोडा बढ़ा दें]

    उत्तर देंहटाएं
  31. Behtareen Poems

    एक प्रभावी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  32. ऋतू जी की सभी रचनाएँ पाठकों पर अपना भरपूर प्रभाव छोडती हैं. उनको बधाई और शुभ कामनाएं
    बहुत मेहनत और सुन्दरता से आपने प्रस्तुत किया
    आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  33. Ritu ji samvedanshil prastuti...
    "Vaishya" yah kavita padkar aankhen nam ho aaii. sabhi kavitayen bahut hi acchi lagi.
    aur manvi ji aur Anant ji aapka blog kholte hi mujhe ek song sunai dia "pahal nasha..." kya yah koi naya prayog hai ya fir mere computer me kuch kharabi hai...
    par jaisa bhi hai accha laga.
    :)
    aapne ek acchi lekhika se parichay karaya. aapka abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऋतू पल्लवी की " औरत ' और 'क्यूँ नहीं ' कवितायें बेहतरीन कविताओं में से एक है ...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  35. अच्छे विचार, सुन्दर रचना . प्रस्तुती अच्छी लगी. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  36. @प्रिय रोशनी जी
    सुन्दर प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद
    आपने जिस गाने की बात की है वो कोई नया प्रयोग नहीं है और न ही आपके कंप्यूटर में खराबी है :)
    हम लोग ठहरे संगीत के रसिक .... इसलिए ब्लॉग में नीचे आप देखिये ... हमने मिक्स पॉड लगा रखा है ... वहां जाकर आप और भी बहुत सारे गाने सुन सकती हैं .. इसके अलावा अगर चाहें तो वीडिओ पर क्लिक करके पिक्चर भी देख सकती हैं !
    हो गया न आपकी जिज्ञाषा का समाधान !

    उत्तर देंहटाएं
  37. जन्मदिवस की शुभकामना के लिए आपको बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  38. Dr.Ritu pallavi ji ki tamam rachnayen rochak evam utkrist hain. badhai !

    उत्तर देंहटाएं
  39. ऋतू जी की लिखी सभी कवितायेँ बहुत अच्छी लगीं.
    एक प्रभावी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत दिन बाद आने के लिये क्षमा चाहती हूँ । जून के बाद ही रोज़ आ पाऊँगी। बहुत सुन्दर कवितायें हैं इस ऋतु की कवितायें बहुत ही अच्छी हैं सभी कवितायें दिल को छूती हैं उन्हें बधाई आपको भी इस श्रेषठ प्रयास के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  41. सुश्री ऋतू पल्लवी जी का सन्देश हमको मेल द्वारा प्राप्त हुआ :

    प्रिय अनंत जी एवं क्रिएटिव मंच
    कविताओं के प्रकाशन के लिए आपका धन्यवाद.

    मैं उन सभी पाठकों के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करती हूँ जिन्होंने मेरी रचनाओं को सराहा एवं उन पर अपनी निश्छल राय प्रतिक्रिया दी.
    ------- ऋतु पल्लवी

    उत्तर देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool