सोमवार, 28 फ़रवरी 2011

आचार्य रजनीश ओशो और संत मोरारी बापू

क्विज संचालन ---- प्रकाश गोविन्द


प्रिय साथियों
नमस्कार !!!
हम आप सभी का क्रिएटिव मंच पर अभिनन्दन करते हैं।
'सी.एम.ऑडियो क्विज़- 10' आयोजन में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों और विजेताओं को बधाई। जैसा कि हमने शुरू में ही कहा था इस क्विज श्रंखला में आपको विविधताएं मिलेंगी। हर बार फ़िल्म से जुडी क्विज़ हो ये आवश्यक नहीं है। इस बार हमने अध्यात्मिक जगत से जुडी दो शख्सियतों- रजनीश 'ओशो' और 'संत मोरारी बापू' की आवाजें सुनवाई थीं और प्रतियोगियों से उनका नाम पूछा था।

वर्तमान में बहुत से संत आये और गए मगर ये दोनों संत अपना विशेष स्थान रखते हैं। अगर युवा पीढ़ी को इनमें रूचि नहीं है तो कोई बात नहीं लेकिन जीवन दर्शन से रूबरू होना कुछ गलत नहीं है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने ये दो क्लिप सुनवाई और आज इन दोनों महान गुरुओं का परिचय और उनके कुछ विचार आप के सामने रखे हैं।

इस बार हमको बहुत ही कम लोगों के सही जवाब प्राप्त हुए। सबसे पहले दर्शन बवेजा जी ने सही जवाब भेजा और प्रथम स्थान हासिल किया। उसके उपरान्त क्रमशः शुभम जैन जी और आशीष मिश्रा जी ने सही जवाब देकर द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया।

आप सभी अपना स्नेह यूँ ही बनाये रखिये। आप की प्रतिक्रिया और सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी। अब अगले रविवार को "सी.एम.ऑडियो क्विज़-11" में आपसे पुनः यहीं मुलाकात होगी।

समस्त विजेताओं व प्रतिभागियों को
एक बार पुनः बहुत-बहुत बधाई और शुभ कामनाएं।

**************************************
अब आईये -
''सी.एम.ऑडियो क्विज-10' के पूरे परिणाम के साथ ही क्विज में पूछे गए दोनों प्रबुद्ध व्यक्तित्व के बारे में बहुत संक्षिप्त जानकारी प्राप्त करते हैं :
glitter
1- आचार्य रजनीश 'ओशो' [Osho]
osho_in_blue_sky1
11 दिसंबर 1931 को जब मध्यप्रदेश के कुचवाड़ा गाँव (रायसेन जिला) में ओशो का जन्म हुआ तो कहते हैं कि पहले तीन दिन न वे रोए, न दूध ‍पिया। उनकी नानी ने एक ज्योतिषी से ओशो की कुंडली बनवाई, जो अपने आप में काफी अद्‍भुत थी। कुंडली पढ़ने के बाद ज्योतिषी ने कहा- 'यदि यह बच्चा सात वर्ष जिंदा रह जाता है, उसके बाद ही मैं इसकी पूर्ण कुंडली बनाऊँगा- क्योंक‍ि इसके लिए सात वर्ष से अधिक जीवित रहना असंभव ही लगता है। ज्योतिष ने साथ ही यह भी कहा था कि 7 वर्ष की उम्र में बच गया तो 21 में मरना तय है, लेकिन यदि 21 में भी बच गया तो यह विश्व विख्यात होगा।'

osho-meditation-music-free-download सात वर्ष की उम्र में ओशो के नाना की मृत्यु हो गई तब ओशो अपने नाना से इस कदर जुड़े थे कि उनकी मृत्यु उन्हें अपनी मृत्यु लग रही थी वे सुन्न और चुप हो गए थे लगभग मृतप्राय। लेकिन वे बच गए और सात वर्ष की उम्र में उन्हें मृत्यु का गहरा अनुभव हुआ। 14 वर्ष की उम्र में उनके शरीर पर एक जहरिला सर्प बहुत देर तक लिपटा रहा। फिर 21 वर्ष की उम्र में उनके शरीर और मन में जबरदस्त परिवर्तन होने लगे उन्हें लगा कि वे अब मरने वाले हैं तो एक वृक्ष के नीचे जाकर बैठ गए, जहाँ उन्हें संबोधि घटित हो गई।

ओशो ने हर एक पाखंड पर चोट की। सन्यास की अवधारणा को उन्होंने osho8भारत की विश्व को अनुपम देन बताते हुए सन्यास के नाम पर भगवा कपड़े पहनने वाले पाखंडियों को खूब लताड़ा। ओशो ने सम्यक सन्यास को पुनर्जीवित किया है। ओशो ने पुनः उसे बुद्ध का ध्यान, कृष्ण की बांसुरी, मीरा के घुंघरू और कबीर की मस्ती दी है। ओशो की नजर में सन्यासी वह है जो अपने घर-संसार, पत्नी और बच्चों के साथ रहकर पारिवारिक, सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए ध्यान और सत्संग का जीवन जिए। ओशो कहते हैं-

osho-rajneesh1 'आपने घर-परिवार छोड़ दिया, भगवे वस्त्र पहन लिए, चल पड़े जंगल की ओर। यह जीवन से भगोड़ापन है, और आसान भी है। भगवे वस्त्रधारी संन्यासी की पूजा होती आई है। वह दरअसल उसकी नहीं, उसके वस्त्रों की पूजा है। वह सन्यास आसान है क्योंकि आप संसार से भाग खड़े हुए तो संसार की सब समस्याओं से मुक्त हो गए। सन्यासी अपनी जरूरतों के लिए संसार पर निर्भर रहा और त्यागी भी बना रहा। लेकिन ऐसा सन्यास आनंद न बन सका। सन्यास से वे बांसुरी के गीत खो गए जो भगवान श्रीकृष्ण के समय कभी गूंजे होंगे-सन्यास के मौलिक रूप में।'

ओशो सरस संत और प्रफुल्ल दार्शनिक हैं। उनकी भाषा osho1027कवि की भाषा है उनकी शैली में हृदय को द्रवित करने वाली भावना की उच्चतम ऊँचाई भी है और विचारों को झँकझोरने वाली अकूत गहराई भी। उनकी गहराई का जल दर्पण की तरह इतना निर्मल है कि तल को देखने में दिक्कत नहीं होती। उनका ज्ञान अँधकूप की तरह अस्पष्ट नहीं है। कोई साहस करे, प्रयोग करे तो उनके ज्ञान सरोवर के तल तक सरलता से जा सकता है।

osho2103 ओशो ने जीवन में कभी कोई किताब नहीं लिखी। मगर दुनिया भर में हुए संतों और अध्यात्मिक गुरुओ की श्रृंखला में वे एक मात्र ऐसे व्यक्ति हैं जिनका बोला गया एक-एक शब्द प्रिंट, ऑडिओ और वीडिओ में उपलब्ध है। आज ओशो एक ऐसी शख्सियत हैं जिनको दुनिया भर में सबसे अधिक पढ़ा जाता हैं। उनकी किताबों का सबसे ज्यादा भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।

महान दार्शनिक- विचारक ओशो ने प्रचलित धर्मों की व्याख्या osho-viha-meditationकी और व्यक्ति को उसकी अपनी आंतरिक क्षमता से अवगत कराया है और बुद्धत्व का पथ प्रशस्त किया है। उन्होंने आदमी की पिच्छलग्गू प्रवृत्ति को ललकारा और उसकी अदम्य, अनंत ऊर्जा शक्ति को उजागर करके उसे एक गौरव दिया। दुनिया को एकदम नए विचारों से बौद्धिक जगत को हिला देने वाले, भारतीय गुरु ओशो से अमेरिकी सरकार इस कदर प्रभावित हुई कि भय से ने उन्हें गिरफ्तार करवा दिया था

osho_reading ओशों की पुस्तकों के लिए दुनिया की 54 भाषाओं में 2567 प्रकाशन करार हुए हैं। ओशो साहित्य की सालाना बिक्री तीस लाख प्रतियों तक होती है। ओशो की पुस्तकों का पहला मुद्रण 25 हजार तक होना मामूली बात है। ओशो की पुस्तक 'जीवन की अभिनव अंतदृष्टि' सारी दुनिया में बेस्ट सेलर साबित हुयी है। वियतनाम और इंडोनेशिया में इसकी दस लाख से अधिक प्रतियाँ बिक चुकी हैं। पूरे देश में आज पूना एकमात्र ऐसा शहर है जहाँ से सबसे अधिक कोरियर और डाक विदेश जाती है।
glitter
2- संत मोरारी बापू [Morari Bapu]
mbapu1
मोरारी बापू का जन्म 25 सितम्बर, 1946 के दिन महुआ के समीप तलगारजा (सौराष्ट्र) में वैष्णव परिवार में हुआ। दादाजी त्रिभुवनदास का रामायण के प्रति असीम प्रेम था। तलगारजा से महुआ वे पैदल विद्या अर्जन के लिए जाया करते थे। 5 मील के इस रास्ते में उन्हें दादाजी द्वारा बताई गई रामायण की 5 चौपाइयाँ प्रतिदिन याद करना पड़ती थीं। इस नियम के चलते उन्हें धीरे-धीरे समूची रामायण कंठस्थ हो गई। दादाजी को ही बापू ने अपना गुरु मान लिया था। 14 वर्ष की आयु में बापू ने पहली बार तलगारजा में 1960 में एक महीने तक रामायण कथा का पाठ किया।

morari_bapu1मोरारी बापू का विवाह सावित्रीदेवी से हुआ। उनके चार बच्चों में तीन बेटियाँ और एक बेटा है। पहले वे परिवार के पोषण के लिए रामकथा से आने वाले दान को स्वीकार कर लेते थे, लेकिन जब यह धन बहुत अधिक आने लगा तो 1977 से प्रण ले लिया कि वे कोई दान स्वीकार नहीं करेंगे। इसी प्रण को वे आज तक निभा रहे हैं। मोरारी बापू मिथ्या आडम्बर और प्रदर्शन से काफी दूर हैं।

सर्वधर्म सम्मान की लीक पर चलने वाले मोरारी बापू की
694morari copyइच्छा रहती है कि कथा के दौरान वे एक बार का भोजन किसी दलित के घर जाकर करें और कई मौकों पर उन्होंने ऐसा किया भी है। बापू ने जब महुआ में पूर्णाहुति के समय हरिजन भाइयों से आग्रह किया कि वे नि:संकोच मंच पर आएँ और रामायण की आरती उतारें। तब कुछ लोगों ने इसका विरोध भी किया और कुछ संत तो चले भी गए, लेकिन बापू ने हरिजनों से ही आरती उतरवाई। सौराष्ट्र के ही एक गाँव में बापू ने हरिजनों और मुसलमानों का मेहमान बनकर रामकथा का पाठ किया।

बापू की रामकथा का उद्देश्य है- समाज की उन्नति और भारत की गौरवशाली संस्कृति के प्रति लोगों के भीतर ज्योति जलाने की तीव्र इच्छा। मोरारी बापू अपनी कथा में शेरो-शायरी का भरपूर उपयोग करते हैं, ताकि उनकी बात आसानी से लोग समझ सकें। वे कभी भी अपने विचारों को नहीं थोपते और धरती पर मनुष्यता कायम रहे, इसका प्रयास करते रहते हैं। उनकी इच्छा थी कि पाकिस्तान जाकर रामकथा का पाठ करें, लेकिन वीजा और सुरक्षा कारणों से ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है।

0 आज जिस सच्चे पथ-प्रदर्शक की जरूरत महसूस‍ की जा रही है, उसमें सबसे पहले मोरारी बापू का नाम ही जुबाँ पर आता है, जो सामाजिक मूल्यों के साथ-साथ भारतीय संस्कृति का अलख जगाए हुए हैं। बापू का कथन है- किसी भी समस्या को सुलझने का पहला और अंतिम रास्ता संवाद ही होता है। जब शस्त्र से काम न बने तो शास्त्रों का सहारा लेना चाहिए। प्रेम और करूणा अंतर्मन से प्रवाहित होती हैं। अगर ये चीजें अंतर्मन से प्रवाहित न हो तो आतंक बढ़ जाता है।

रामचरित मानस को सरल, सहज और सरस 3_morari_bapu_420x315तरीके से प्रस्तुत करने वाले 62 वर्षीय बापू की सादगी का कोई सानी नहीं है। जहाँ पर कथा होती है, वहाँ लाखों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहते हैं। बापू की वाणी में ऐसा जादू है, जो श्रोताओं को बाँधे रखता है। खासियत तो यह है कि उनकी कथा में न केवल बुजुर्ग महिला-पुरुष मौजूद रहते हैं, बल्कि युवा वर्ग भी काफी संख्या में मौजूद रहता है। वे न केवल भारत में, बल्कि विदेशों में भी रामकथा की भागीरथी को प्रवाहित कर रहे हैं।
glitter
क्विज में दिए गए दोनों प्रबुद्ध विचारकों / संतों की वाणी
ओशो रजनीश
मोरारी बापू
glitter
"सी.एम.ऑडियो क्विज़- 10" के विजेता प्रतियोगियों के नाम
glitter
जिन प्रतियोगियों ने एक जवाब सही दिया
समय सीमा निकल जाने के उपरान्त हमें कृति बाजपेयी जी का भी एक सही जवाब प्राप्त हुआ.
applause applause applause समस्त
विजताओं को बधाईयाँ
applause applause applause
applause applause applause applauseapplauseapplauseapplause applause applause applause
आशा है जो इस बार सफल नहीं हुए वो आगामी क्विज में अवश्य सफल होंगे
आप सभी का हार्दिक धन्यवाद

यह आयोजन मनोरंजन के साथ साथ ज्ञानवर्धन का एक प्रयास मात्र है !

अगर आपके पास कोई सुझाव हो तो हमें ज़रूर ई-मेल करें!
अंत में हम सभी प्रतियोगियों और पाठकों का पुनः आभार व्यक्त करते हैं
जिन्होंने क्रियेटिव मंच की क्विज़ में शामिल होकर हमारा उत्साह बढाया.
th_Cartoon
6 मार्च 2011, रविवार को हम ' प्रातः दस बजे' एक नई क्विज के साथ यहीं मिलेंगे !

सधन्यवाद
क्रियेटिव मंच
The End
===================================================

22 टिप्‍पणियां:

  1. ओह्ह.....
    आचार्य रजनीश उर्फ़ ओशो को तो बहुत पढ़ा है लेकिन आवाज़ पहली बार सुनी...उनसे बहुत प्रभावित भी हूँ...
    मुरारी बापू का तो नाम ही पहली बार सुना लेकिन शक्ल थोड़ी थोड़ी पहचानी सी है....
    चलिए इस गुगली पर हम तो बोल्ड हो गए....
    और इस गुगली पर ७ बल्लेबाजों ने जो कमाल की बैटिंग की उन्हें बहुत बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बस देखने आया था की सब मेरे जैसे ही बिगड़े हुए हैं या नेक लोग भी हैं. सात सच्चे भक्तों को देखकर बहुत ख़ुशी हुयी.
    बधाई -- बधाई -- बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये बधाई उन लोगों को ही है जिन्होंने नक़ल नहीं मारी कहीं से और सिर्फ यहाँ ऑडियो क्लिप सुनकर ही नाम बताया है.
    हाँ अब कितने बचे :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. darshan ji aur sabhi vijetaon ko bahut badhayi
    afsos hai kal mai aa nahi paaya warna osho ki aawaaj turant hi pahchaan leta. kam se kam ek sahi waale men mera bhi naam hota.

    उत्तर देंहटाएं
  5. saari galti meri mamma ki hai.
    kitni baar hamne unse kaha ki aastha channel dekha kariye. unhone suni nahi baat isiliye ham haar gaye :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खुशी हुई
    सब को बधाईयाँ
    cmindia.in का बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. congratulations to
    all winners and participants

    ek video nahi chal raha hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह.....!

    सप्तऋषि रूपी सात विजेताओं के समूह को बहोत-
    बहोत बधाई.......:)
    ***********************************
    इस बार खुशी होने के साथ दुःख भी हो रहा है कि
    शेखर जी और अदिती जी विजेता लिस्ट में नहीं
    दिख रहे हैं .................:(
    ***********************************
    पोस्ट में दोनों ही संतों के बारे में बहोत अच्छी
    जानकारी दी है..............आभार
    ***********************************
    @ अदिती जी आप अपनी मम्मी को क्यों
    परेशान कर रही है मेरे ख्याल से अब आप खुद
    आस्था और संस्कार चैनल देखना शुरू कर दो
    ......:)
    ***********************************
    एक बार पुनः सभी विजेताओं व प्रतिभागियों सहित क्रिएटिव मंच को बधाई
    *********************************** 

    उत्तर देंहटाएं
  9. sabhi ko badhayi
    bahut hi sundar presentation hai
    sundar jankari

    उत्तर देंहटाएं
  10. सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. सभी विजेताओं को बहुत बहुत बधाई.......

    उत्तर देंहटाएं
  12. विजेताओं को बधाइयाँ ..... क्विज़ के बहाने कई बातों और हस्तियों के विषय में अच्छी जानकारी मिल रही है... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. @शेखर और आशीष ,आप दोनों के एक्साम्स कैसे हुए?
    परीक्षा के दिनों में आप की प्रतिभागिता देख कर खुशी हुई.
    @आदिती ..आपकी मम्मी की गलती नहीं है ..'आस्था 'चेनल दादी/नानी के देखने का है[:)]
    [मज़ाक कर रही हूँ..गंभीरता से न लेना]

    @शिवेंद्र जी आप ने जो २०-३० नामों की लिस्ट दी थी उसे देख कर लगता नहीं कि आप को संतों के बारे में ज्ञान नहीं ..हाँ..आवाज़ें नहीं पहचान सके वो बात अलग है!:)
    @दर्शन जी और इंदु जी विज्ञान के अतिरिक्त आध्यात्म में भी रूचि रखते हैं ,जानकर अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अल्पना जी,
    परीक्षाएं तो ज़िन्दगी भर चलती रहती हैं, उनके बीच में कुछ हलके फुल्के क्षण निकलना ही तो ज़िन्दगी है....
    परीक्षा अच्छी हुई....
    आशीष भाई..
    कोई बात नहीं | इस बार विषय ही मेरी रुचि का नहीं था, इसलिए मैंने कोशिश भी नहीं की...

    उत्तर देंहटाएं
  15. @आदरणीय अल्पना मैम मेरी परीक्षाएँ बहोत ही लेट हो गयी है . अब परीक्षाएँ १५ अप्रेल से होनी है सब देवी अहिल्या विश्विद्यालय की देन है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ऐसा बेहतरीन और दुर्लभ लेख बहुत कम देखने को मिलता है ! कुइज़ के कारण शायद लोगों का ध्यान खूबसूरत लेखों पर कम जा पाता है हालाँकि सबकी अपनी अपनी उपयोगिता है ! अच्छे काम के लिए आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. @alpnaa ji
    अपुन की अध्यात्म में कोई रूचि नहीं है हाँ मैडम इंदु जी की है पर प्रवचन कभी नहीं सुने उन्हों ने भी, यहाँ उत्तर देने में शुद्ध विज्ञान का प्रयोग हुआ है कुछ वैज्ञानिक तरीके से सोचने की शक्ति का,
    मोरारी बापू जी की आवाज़ मै पहचान गया था कभी सुना होगा यादाश्त के आधार पर
    और प्रकाश जी की ओशो में रूचि मुझे उन के प्रोफाईल के जरिए पता थी
    इस लिए मैंने अंदाजा लगाया कि हो ना हो यह आवाज ओशो जी की ही है
    कभी विज्ञान पहेली में भी अपना हिस्सा डालो मतलब जवाब दो जी,आपके सहयोग की जरूरत यहाँ भी है :)
    .
    .
    विज्ञान पहेली-7

    उत्तर देंहटाएं
  18. @ alpana ji ham to aapke starting se hi fan rahe hain.
    ham bhale hi is quiz me haar gaye lekin hame ye wali quiz bahut hi pasand aayi. hame aise vyaktitva ko jaanna hi chaahiye.

    @ darshan ji mujhe aashcharya hai ki aapki tarah hamne kyon nahi socha :(
    govind sir ji to osho ke bade prashansak hain. unhone to bahut sari photos bhi apne office men laga rahi hain.
    mujhe kal dhyan hi nahi aaya. aapne badhiya mind apply kiya.
    shabash darshan ji shabash

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool