शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

शबनम शर्मा जी की भावपूर्ण कवितायें

प्रस्तुति :- प्रकाश गोविन्द


शबनम शर्माshabnam_sharma परिचय -
जन्म तिथि : 20 जनवरी 1956 को नाहन में।
शिक्षा : बी.ए., बी.एड.
संप्रति : अध्यापन।
प्रकाशित रचनाएँ : अनमोल रत्न तथा काव्य कुंज दो कविता संग्रह प्रकाशित।
कार्यक्षेत्र : अध्यापन व लेखन। ग़ज़लें, कविताएँ, लेख, कहानियों व लघुकथाओं सहित लगभग 600 रचनाएँ प्रकाशित।

आकाशवाणी शिमला व दूरदर्शन से ग़ज़लें व कविताएँ प्रसारित। भारत के अनेक कवि सम्मेलनों में भागीदारी।

IMG_5326_family_chat_280
प्रश्न
==============
मैं भी तुम्हारी तरह
सुबह से शाम तक खटती, nothing-to-something
देखती कई उतार-चढ़ाव,
सहती अनगिनत अप्रिय शब्द,
लौटती घर पूरी तरह
निचोड़ी गई किसी चूनरी की तरह,
पर शायद तुम ज़्यादा थक जाते,
निच्छावर करती संपूर्ण अस्तित्व
तुम्हें खुश रखने हेतू,
बनना चाहती अच्छी माँ, पत्नि, बहन,
एक अच्छी व्यवसायिका भी,
परंतु एक सवाल सदैव झंझोड़ता
कि तुम मुझसे ज़्यादा क्यों थकते हो,
शायद समाज का बोझ तुम पर ज़्यादा है,
और तुम अबला कह कर,
मुझे कितनी सबला बना, पीस जाते हो
समाज की लोह चक्की में।
========
बेटियाँ
===============
शायद पल भर में ही KwanYinIIIBBNNBB
सयानी हो जाती हैं - बेटियाँ,
घर के अंदर से
दहलीज़ तक कब
आ जाती हैं बेटियाँ
कभी कमसिन, कभी
लक्ष्मी-सी दिखती हैं – बेटियाँ।
पर हर घर की तकदीर,
इक सुंदर तस्वीर होती हैं – बेटियाँ।
हृदय में लिए उफान,
कई प्रश्न, अनजाने
घर चल देती हैं बेटियाँ,
घर की, ईंट-ईंट पर,
दरवाज़ों की चौखट पर
सदैव दस्तक देती हैं – बेटियाँ।
पर अफ़सोस क्यों सदैव
हम संग रहती नहीं - ये बेटियाँ।
=========================
मुसाफ़िर
===========
ममता, फ़र्ज़ और समय के द्वंद्व में
किस तरह मैंने अपनी कश्ती खींची।
कई बार ममता के थपेड़ों
को पीछे हटा फ़र्ज़ निभाया,
समय का पहिया
घूमता रहा अपना धुरी पर
कई कष्ट झेले हैं
मेरी अंदर की औरत ने,
मेरी माँ रोई है कई बार,
मेरी औरत तड़पती है अँधेरी रातों में,
परंतु समय के पतवार
अपने चप्पू चलाते रहे,
कश्ती लिए किनारे तक
आ ही गई, उतर गए मुसाफ़िर,
चल दिए मंज़िलों की तरफ़,
कह कर कि कश्ती का सफ़र भी कोई सफ़र था।
इल्ज़ाम
===========
मैं चल रही हूँ
या वक्त खड़ा है
दोनों ही सवाल
सही हैं
शायद बलवान है वक्त,
जो मेरी ज़िंदगी के
हिंडोले को कभी
हल्का-सा हिलाता
तो कभी झिंझोड़ जाता।
महसूस करती वक्त
के थपेड़ों को मैं
कभी हँसकर तो कभी रो कर
इल्ज़ाम देती कि वक्त
ख़राब है शायद इसलिए
कि अपने सिर इल्ज़ाम
लेना इंसान की
फ़ितरत नहीं।
===========
बाबूजी के बाद
==================
घर का दरवाज़ा खुलते ही
ठिठकते कदम, रात गहराई
पी भी ली थोड़ी ज़्यदा,
बाबूजी की डाँट
फिर बहू से कहना
''मत देना इसे खाना,
निकाल दे घर से बाहर''
व खुद ही खाँसते-खाँसते
साँकल भी चढ़ा देना।
तिरछी निगाहों से
देख भी जाना, कि
खाकर सोया भी हूँ,
सुबह रूठा-सा चेहरा बनाना
और बड़बड़ाते रहना,
बच्चा-सा बना देता था मुझे।
आज, खाली कुरसी, खाली कमरा,
देखते ही बरस पड़े हैं मेरे नयन।
बड़ा हो गया हूँ मैं,
महसूस कर सकता हूँ
उनकी छटपटाहट जब
आज मेरा नन्हा बेटा
काग़ज़ को मरोड़
सिगरेट का कश भरता है
और कोकाकोला गिलास में भरकर
चियर्स कहता है तोतले शब्दों में।


============
The End
============

12 टिप्‍पणियां:

  1. सभी कविताएँ बहुत पसंद आई.बेटियाँ ,मुसाफिर,इल्जाम सभी.बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन कवितायें हैं शबनम जी की |
    बेटियाँ., इल्जाम ...सभी रचनाएं भावपूर्ण
    'बाबु जी के बाद' कविता पढ़कर आँखें नम हो गयीं
    ----- आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. सभी रचनायें बहुत सुन्दर सशक्त हैं शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  5. सभी रचनाएं एक से बढ़कर बहुत-बहुत बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  6. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर कविताये..प्रश्न, बेटियाँ, मुशाफिर....सभी एक से बढ़ कर एक....

    जवाब देंहटाएं
  8. शबनम जी की सभी कवितायेँ बहुत ही भावपूर्ण हैं.
    प्रस्तुति के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  9. पर अफ़सोस क्यों सदैव
    हम संग रहती नहीं - ये बेटियाँ।
    अत्यंत सुंदर भाव, यह भोला-भाला प्रश्न मन को कुरेद गया
    विजयप्रकाश

    जवाब देंहटाएं
  10. सभी कवितायेँ बहुत पसंद आई
    बेटियाँ और बाबूजी दिल को गहरे तक छू गयीं
    इतनी अच्छी रचना पढ़वाने और शबनम जी से मिलवाने के लिए क्रिएटिव मंच का बहुत शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  11. i always love your Poems and Stories Maa. Love you a lot. May you succeed like this always.

    जवाब देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool