शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2009

अग्निशेखर जी की मर्मस्पर्शीय कवितायें

प्रस्तुति :- प्रकाश गोविन्द


अग्निशेखर

agni shekhar

परिचय
कश्मीर के विस्थापित कवि, जो अलग रहते हुए भी कश्मीर को अपने दिल से कभी जुदा ना कर सके, अतः कश्मीरी साहित्य को विश्व के सम्मुख लाने मे संल्लग्न हैं ।

हिन्दी में तीन कविता संग्रह हैं : किसी भी समय , मुझसे छीन ली गई मेरी नदी , कालवृक्ष की छाया में आतंक और आक्रमण के साये में कविता की छाँव फैलाने वाले इन कवि का कवित्व समकालीन सन्दर्भ में विशेष सार्थक है !

New

दस्तकें

बन्द दरवाज़ों ने
बुलाया दस्तकों को
अपने पास
घबराया समय
और दस्तकों को
हुआ कारावास
इस तरह हर युग में
बन्द दरवाज़े रहे उदास

जोख़िम

एक लड़की करती है
किसी से प्यार
सड़कों पर दौड़ने लगती हैं दमकलें
साइरन बजाते
कवि चढ़ता है अपनी छत पर
और मुस्कुराता है कुछ पल
वह बदल देता है
अपनी कविता का शीर्षक
बच निकलती है लड़की

कश्मीरी मुसलमान –1

कितना भीग जाता है मेरा मन
खुली-खुली पलकों से आकर
टकराता है घर
मेरा देश
पूरा परिवेश
खुलती हैं घुमावदार गलियाँ
उनमें खेलने लग पड़ता है बचपन
बतियाती हैं पड़ोस की अधेड़ महिलाएँ
मज़हब से परे होकर
एक बूंद आँसू से धुल जाती हैं
शिकायतें
जलावतनी में जब देखता हूँ


******************************************************

कश्मीरी मुसलमान – 2

हमारी एक-दूसरे को सीधे
देखने से कतराती हैं आँखें
हम एक-दूसरे को नहीं चाहते हैं
पहचान पाना इस शहर में

दोनों हैं लहुलुहान
और पसीने से तर

फिर भी
ठिठक जाते हैं पाँव
कि पूछें, कैसे हो भाई
किसी भी कश्मीरी मुसलमान को

तमस

तमस हर तरफ़ खिंचा-पसरा था
जैसे खड़ा था सामने एक भयानक रीछ
और हम सहमे हुए थे
खो गया था सबका दिशाबोध
घड़ियों में बज रहा था कुछ
पता नहीं कहाँ पर थे उस वक़्त खड़े हम
ख़त्म हो जाने के खिलाफ़ मूक
किसी छोर से सूरज उगने तक
हमने बचाई किसी तरह
जीवन की लौ

हम ही

अनुमान लगा सकते हैं हम
किसका शव मिला होगा वितस्ता नदी से
किसको दी गई होगी फाँसी
सेबों के बाग़ में
किसको ले गए होंगे घर से उठाकर
आँसू किसके गिरे होंगे
ओस की तरह
घास पर
अनुमान लगा सकते हैं हम
यहाँ जलावतनी में



===============
The End
===============

16 टिप्‍पणियां:

  1. सभी कवितायें गहरे भाव लिये हैं अग्निशेखर जी को बहुत बहुत बधाई।अपका धन्यवाद शेखर जी का परिचय देने के लिये और रचनायें पढवाने के लिये।
    अनन्त जी कल आपको मेल की थी क्या मिल गयी? मुझे आपने पता नहीं दिया।

    जवाब देंहटाएं
  2. अग्नि शेखर जी की कविताओं को पढ़कर स्तब्ध हूँ / बहुत कुछ कहना चाहती हूँ लेकिन नहीं कह पा रही हूँ / भगवान् किसी को ऐसे दिन न दिखाए / एक विस्थापित का दर्द गहराई से समझ में आ रहा है
    अग्निशेकर जी को शुभकामनाएं
    आपको धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  3. अग्नि शेखर जी की कवितायें वास्तव में मर्मस्पर्शीय हैं और दिल को कचोटती भी हैं. अपनी मिट्टी से यूँ दर बदर होने का दर्द वही समझ सकता है जिसने भोगा हो.
    आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. anubhutiyon se bharpoor
    gahri rachnayen

    thx 2 u

    T.T. Manglam

    जवाब देंहटाएं
  5. जोखिम ओर कश्मीरी मुस्लमान -२ बहुत पसंद आयी

    जवाब देंहटाएं
  6. १-दस्तक कविता गहन भाव लिए है.जीवन को जैसे बहुत करीब से देखा है कवि ने .
    २-जोखिम -कविता को पढ़ कर मुझे एक हिंदी फिल्म 'शब्द 'याद आगयी--काश इतना आसान होता कुछ भी बदलना.
    ३-कश्मीरी मुस्लमान --कविता उनके दर्द को खूब बखान कर रही हैं.यह शायद हर विस्थापित का दर्द है.
    ४-तमस कविता में उम्मीद की रोशनी नज़र आती है.निराशा को आशा अपनी छाया से छुपा लेगी.
    ५-आखिरी कविता बेहद मर्मस्पर्शी है.
    अग्नि शेखर जी को पहली बार पढ़ा..उनकी कवितायों में दर्द है एक कहानी है,कुछ ही शब्दों में बहुत कह देने की ताकत है.

    -saath di gayee painting bhee amazing hai.

    क्रिएटिव मंच का शुक्रिया इन बेहतरीन रचनाओं को पढ़वाने का और एक अग्नि शेखर जी से रूबरू करवाने का.
    यह स्तम्भ अनूठा प्रयास है.शुभकामनायें.
    --अल्पना वर्मा

    जवाब देंहटाएं
  7. हमारी एक-दूसरे को सीधे
    देखने से कतराती हैं आँखें
    हम एक-दूसरे को नहीं चाहते हैं
    पहचान पाना इस शहर में

    दोनों हैं लहुलुहान
    और पसीने से तर

    फिर भी
    ठिठक जाते हैं पाँव
    कि पूछें, कैसे हो भाई
    किसी भी कश्मीरी मुसलमान को
    बहुत ही भाव पुर्ण, अति सुंदर
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  8. अग्नि शेखर जी को पढना
    टीस और वेदना के दरिया को पार करने जैसा है,
    हर कविता पठनीय है, कहे से ज्यादा अनकहा निहित है जो महसूस होता है ...
    प्रकाश गोविन्द जी का आभार

    जवाब देंहटाएं
  9. @ निर्मला कपिला जी
    मुझे आपका मेल प्राप्त हो गया. और आपको मेल भेजा भी है
    कृपया आप अपना मेल चेक करिए - धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  10. कविताओं की बहुत अच्छी समझ नहीं है मुझे ! फिर भी ये कवितायें पसंद आयीं ! काश्मीर हम भारत वासियों के दिल से जुडा शब्द है ! आतंकवाद की आग ने वहां के रहने वालों पर कितना गहरा असर डाला ये महसूस होता है और दुःख भी ! अग्नि शेखर जी को शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  11. अग्नि शेखर जी की कवितायेँ वास्तव में ही मर्म स्पर्शीय हैं ... इनमें बहुत गहरा भाव-बोध छुपा है.
    प्रकाश जी की बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...आभार

    जवाब देंहटाएं
  12. इतनी मर्मस्पर्शी कविताएं पढ़वाने के लिये शुक्रिया..जिस दर्द की कोई जुबान नही होती..कोई लिपि नही होती..जलावतनी के उस दर्द को अपने दिल मे धड़कता सा महसूस करता हूँ इसे पढ़ कर.

    जवाब देंहटाएं
  13. बेहतर कविताएं...
    अंतस से संवाद करती हुई...

    जवाब देंहटाएं
  14. माफी चाहूँगा, आज आपकी रचना पर कोई कमेन्ट नहीं, सिर्फ एक निवेदन करने आया हूँ. आशा है, हालात को समझेंगे. ब्लागिंग को बचाने के लिए कृपया इस मुहिम में सहयोग दें.
    क्या ब्लागिंग को बचाने के लिए कानून का सहारा लेना होगा?

    जवाब देंहटाएं
  15. मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा ! बहुत बढ़िया और ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है !

    जवाब देंहटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला'

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !

CTRL+g दबाकर अंग्रेजी या हिंदी के मध्य चुनाव किया जा सकता है
+Get This Tool